top of page

श्रीराम जन्मभूमि मंदिर: एक ऐतिहासिक क्षण का आगमन



भारतीय सांस्कृतिक और धार्मिक सागर में एक नया अध्याय खुलने का समय आ गया है, जब श्रीराम जन्मभूमि मंदिर का निर्माण हो रहा है। इस मंदिर का ऐतिहासिक उद्घाटन 22 जनवरी 2024 को होने वाला है, जो देशवासियों के लिए एक अद्वितीय और आदर्श क्षण होगा। इस बड़े पर्व की तैयारी के बीच, हम इस मंदिर के निर्माण के पीछे छुपे ऐतिहासिक सफलता और भगवान श्रीराम के जीवन के महत्वपूर्ण पहलुओं को जानेंगे।


मंदिर का ऐतिहासिक पृष्ठभूमि


भगवान श्रीराम का जन्मभूमि, अयोध्या, एक ऐतिहासिक नगर है जो सदियों से भारतीय सांस्कृतिक और धार्मिक विरासत को संजीवनी देता रहा है। रामलला का अवतार होने का स्थान न केवल धार्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है, बल्कि ऐतिहासिक दृष्टि से भी यह स्थान अद्वितीय है। इसे महर्षि वाल्मीकि द्वारा रचित "रामायण" में भगवान श्रीराम के जन्मस्थल के रूप में स्थापित किया गया है।


ऐतिहासिक विवाद


श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के चारों ओर घूमने वाले एक ऐतिहासिक विवाद ने देश को दो धागों में बाँट दिया था। बाबर के शासनकाल में मस्जिद बनने के बाद से ही इस स्थल पर विवाद शुरू हो गया था, जो अदालती मुकदमे तक पहुंच गया था। सुप्रीम कोर्ट ने 2019 में ऐतिहासिक निर्णय दिया और निर्माण की अनुमति दी, जिससे यह विवाद समाप्त हुआ।


भव्य निर्माण की घड़ी


श्रीराम जन्मभूमि मंदिर का निर्माण एक भव्य प्रक्रिया है जो देशवासियों को एक साथ जोड़ रही है। इस भव्य निर्माण के लिए उद्घाटन तिथि को 22 जनवरी 2024 के रूप में निर्धारित की गयी है। यह एक महत्वपूर्ण मौका है जब देशवासी अपने असली धारोहर की ओर रुचि बढ़ा रहे हैं। इस दिन भगवान श्रीराम की प्रतिष्ठा और पूजा का आरंभ होगा, जिसे सभी धार्मिक और सांस्कृतिक परंपराओं के लोग दिल से स्वागत करेंगे।


यात्रा का आरंभ


इस निर्माण के साथ एक नया अध्याय शुरू हो रहा है, जिसमें श्रद्धालुओं को एक नया स्वरूप मिलेगा। यह मंदिर न केवल एक सांस्कृतिक और धार्मिक स्थल होगा, बल्कि यह एक ऐतिहासिक संकेत भी होगा जो देश को एक साथ जोड़ेगा।


मंदिर के विशेषता


दिव्य समर्पण: यह मंदिर सिर्फ एक निर्माण का कार्य नहीं है, बल्कि यह एक समर्पित स्थान है जो भगवान श्रीराम की विशेष पूजा और अर्चना के लिए बनाया गया है। यहां भगवान के प्रति श्रद्धालुओं का सामर्थ्य बढ़ाया जाएगा और वे अपनी भक्ति को बढ़ाने के लिए इस मंदिर की यात्रा करेंगे।


अत्यंत विशेष स्थान: यह मंदिर एक अत्यंत विशेष स्थान है जो भारतीय समृद्धि की नींव को मजबूत करने के लिए बना है। यहां आने वाले लोग न केवल एक धार्मिक यात्रा करेंगे, बल्कि वे एक ऐसे स्थान पर खड़े होंगे जो उन्हें अपने धार्मिक और सांस्कृतिक मूल्यों को पुनः स्वीकार करने के लिए प्रेरित करेगा।


महत्वपूर्ण दिनों की स्मृति


22 जनवरी 2024 - श्रीराम जन्मभूमि मंदिर का उद्घाटन: अयोध्या में, इस दिन, भगवान श्रीराम के नए भव्य मंदिर का उद्घाटन होगा। यह देशवासियों के लिए महत्वपूर्ण दिन होगा, जब वे अपने धरोहर के साथ भगवान श्रीराम के एक नए संबंध की शुरुआत करेंगे।


मुहूर्त: इस महत्वपूर्ण उद्घाटन के लिए 12:20 मिनट का अभिजीत मुहूर्त तय किया गया है, जिससे यह सुनिश्चित है कि मंदिर का उद्घाटन शुभ होगा और भगवान श्रीराम की कृपा सभी पर बनी रहेगी।


भगवान श्रीराम की कृपा



श्रीराम का संदेश: भगवान श्रीराम का संदेश यह है कि इस मंदिर के निर्माण से न केवल एक धार्मिक स्थल बनेगा, बल्कि यह एक सकारात्मक संकेत है जो एकता, समरसता और प्रेम की भावना को बढ़ावा देगा। भगवान राम की कृपा बनी रहे और सभी धरोहरों को मिलकर एक सशक्त, समृद्ध और समरस भारत की दिशा में प्रेरित करे।



31 views0 comments

Comments


bottom of page